'DAR' का डर सता रहा रेलवे अधिकारियों को !

Published By :  Pravesh Gautam

Sep 02,2017 | 09:16:53 am IST |  11851

द करंट स्टोरी।

लो कर लो बात

आज भोपाल रेल मंडल कार्यालय के पास चाय पी रहा था, कि अचानक ही किसी ने पीठ पर हाथ रखते हुए बधाई दी। पीछे मुड़कर देखा तो चच्चा मुस्कुराते हुए खड़े थे। 

मैने चच्चा को बकरीद की बधाई देते हुए हालचाल पूछा तो उन्होंने कुछ अजीब ही तरीके से जवाब दिया। 

उन्होंने कहा कि मियां फर्जी भतीजे, क्या कर दिया तुमने? सभी अधिकारियों की बोलती बंद है? मियां भोपाल रेल मंडल में अधिकारियों को DAR का डर सता रहा है और नींद भी उड़ी हुई है।

मुझे कुछ समझ आता उससे पहले ही चच्चा हंसते हुए कहने लगे कि:

'मियां फर्जी भतीजे, ब्लॉक को लेकर रेलवे बोर्ड से लेकर जोनल कार्यालय तक में हड़कंप मचा हुआ है। वहीं जीएम सहित डीआरएम भी चिंतित हैं। इसी के चलते भोपाल डीआरएम ने सभी अधिकारियों को DAR का डर दिखा दिया है।'

अब चच्चा यह DAR का डर क्या है?

'मियां फर्जी भतीजे, नाराज डीआरएम ने सभी अधिकारियों को मीडिया से दूरी बनाने के लिए कहते हुए निर्देश दिया है कि सीनियर डीसीएम व पीआरओ के अलावा, कोई भी मीडिया से बात नहीं करेगा, और ऐसा करते हुए पाया गया तो उस पर DAR (Disciplinary Action Rules) के तहत कार्यवाही की जाएगी।'

'इसके बाद से ही भास्कर, पत्रिका, दैनिक जागरण जैसे मीडिया हाउस से नज़दीकी निभाने वाले अधिकारियों की नींद उड़ी हुई है। कई का तो बीपी भी बढ़ गया है।'

अब चच्चा इसमें मेरी क्या गलती?

'मियां फर्जी भतीजे, मेंटनेंस के लिए ब्लॉक न देने वाली खबर किसकी है? और किस रूट पर कितना ब्लॉक मिलता है, यह किसने बताया है?'

इतना कहकर चच्चा अपनी गाड़ी स्टार्ट करके फुर्र हो गए और पीछे धुआं छोड़ गए। 

मुझे तो कुछ समझ नहीं आया, अगर आप समझ गए हों तो....... 

लो कर लो बात

(नोट: चच्चा और मियां फर्जी भतीजे, काल्पनिक किरदार हैं और इनके बीच की गई बातों का वास्तविकता से कोई लेना देना नहीं है। य​दि है तो वह केवल इत्तेफाक है।)
 

Tags :